योग घर और परिवार मे ( अनिल गोयल )

परिवार के साथ जब हम योग को जोडते है तो समझो हमने अपनी जिंदगी को बहुत सुंदर बना दिया l एक ऐसी जिंदगी जिसमे स्वास्थ्य है, सुख है और आनंद ही आनंद है l कहते है पहला सुख निरोगी काया है l जब शरीर निरोगी होता है तो संसार के सारे सुख हमे अच्छे लगते है और जब शरीर रोगी होता है तो सारे सुख भी दुख स्वरूप लगते है l योग शरीर ,मन और आत्मा को प्रसन्नं करता है l योग शरीर का ही विज्ञान नही है ये एक जीवन जीने की कला है l जो जीवन मे सभी के लिये आवश्यक है l जब हम परिवार के सदस्यो के साथ योग करते है तो अपने परिवार को रोग मुक्त बनाते है l परिवार मे जब बच्चे, माता पिता, और दादा दादी सब एक साथ योग करते है तो उनके बीच आपस मे सामन्जस्य बनता है और सभी को एक दुसरे को समझने मे मदद करता है l घर मे बच्चे जब बडो को योग करते हुए देखते है तो उनको भी अपने स्वास्थ्य के प्रति जागरूक होने की प्रेरणा मिलती है l योग कठीन परिस्थितीयो और संघर्ष की स्थिती मे बच्चो और बडो की मानसिक स्थिती को मजबूत बनाता है और लड़ने की ताकत देता है l योग परिवार मे व्यक्तित्व विकास भी करता है l योग का शाब्दिक अर्थ जोडना है l

ये परिवार को जोडता है रिश्तो मे मिठास लाता है l योग जीवन मे सामन्जस्य बेठाता है l ये परिवार के सदस्यो को निरोगी तो बनाता ही है उनके विचार ,कर्म, भोजन को भी श्रेष्ठ करता है l ये परिवार के सदस्यो के बीच एक बेहतरीन समय देता है जिसको सभी आनंद से बिताते है l हमारे समाज की परिकल्पना परिवार की इकाई से है l जब परिवार सुंदर बनता है तो समाज सुंदर बनता है और जब समाज सुंदर बनता है तो हमारा राष्ट्र भी सुखी, स्वस्थ और समर्थ बनता है l योग परिवार को एक लय मे जोडता है l अगर परिवार मे सामन्जस्य है तो समाज और राष्ट्र मे भी सामन्जस्य बनता है l योग के यम और नियमो पर चलकर हम एक श्रेष्ठ जीवन जीने का प्रयत्न कर सकते है l योग हमे दुख से सुख ,निराशा से आशा ,और अन्धकार से प्रकाश की और ले जाता है l गीता मे कहा गया है “समत्वं योग उचयते ” जिसका अर्थ है सम भाव मे जीना ही योग है l परिवार मे जब कोई दुख आता है तो योग हमे समभाव मे रहना सिखाता है जिससे दुख हमे परेशान नही कर पाता l योग हमे अपरिग्रह यानी अनावश्यक वस्तुओ के संग्रह करने पर भी रोकता है जो की हमारे परिवार और राष्ट्र के लिये अती आवश्यक है l अनावश्यक वस्तुओ के संग्रह से हम अपने देश की प्राकर्तिक सम्पदा को ही नुकसान नही पहुंचाते बल्की अपने परिवार का आर्थिक नुकसान भी करते है l योग इसमे हमे मदद करता है l योग हमे इश्वर प्राप्ति की तरफ उन्मुख करता है l पतन्जली के योग सूत्र मे कहा गया है “योगस्चित व्रति निरोधम ” योग चित की व्रतियो का निरोध करता है l योग भारतवर्ष के मनिषीयो द्वारा दिया गया स्रष्टी को एक अनुपम उपहार है जो संपुर्णi मानव जाति को एक सुंदर ,स्वस्थ और सुखी जीवन जीना सिखा देता है l

Author:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *