palmistry se jadu tona ka pata lagaya ja sakta hai?

दोस्तों नमस्कार जय गुरु देव ! दोस्तों अक्षर लोग जादू टोना या तांत्रिक करियो के शिकार हो जाते है ! जिसके दुष्प्रणिमान इंसान को भुगतने पड़ते है ! सबसे मुख्य बात इसका पता जल्दी नहीं चलता जिसके चलते लोगो को ज्यादा परेशानिया उठानी पड़ती है ,इंसान को समझ नहीं आता उसके जीवन में लगातार आ रही इन समस्याओ का कारण क्या है ? इस लिए मै इस लेख के माध्यम से आपको ये बताने वाला हूँ आप अपने हाथो के माध्यम से कैसे पता लगाए कि आप पर किसी जादू टोन या तांत्रिक क्रिया का प्रयोग हुवा है ! palmistry में बहुत कम विद्वानों ने इस बात का उल्लेख किया है कि kya palmistry se jadu tona ka pata lagaya ja sakta hai ?

तो हां पल्मिस्ट्री से जादू टोने का पता लगाया जा सकता है !सबसे पहले हथेली में राहु पर्वत का अध्यन करे क्या वो अपने मूल स्थान पर है ? अगर राहु पर्वत खिसक कर केतु पर्वत कि तरफ उठा हुवा दिखाई दे रहा है तो जातक किसी जादू टोने या तांत्रिक क्रिया का शिकार है ,उसके आलावा हथेली के रंग का अध्यन करे ,अगर हाथ का रंग काला या नीला नजर आये तो ये भी काले जादू या तांत्रिक क्रिया होने का संकेत है !इसके आलावा अगर पांव के अंगूठे के नाख़ून का रंग नीला काला या पीला नजर आये तो ये भी जीवन पर किसी जादू टोने ,या तांत्रिक क्रिया का संकेत है !

इसके आलावा अगर हाथो के नाख़ून टूटना सुरु हो जाये तो ये भी एक गंभीर संकेत है !मस्तिष्क रेखा में दोष उत्त्पन हो जाये और वो घूम कर चंद्र पर्वत पर चली जाये और अंतिम स्थान पर क्रॉस या तारे का निशान दिखाई दे रहा हो तो ये भी जादू टोना या तांत्रिक क्रिया होने का संकेत है !अगर इसके साथ गुरु पर्वत पर तारे का निशान दिखाई दे ,चंद्र पर्वत पर जाल का निशान दिखाई दे ,और गुरु पर्वत पर जो तारे का निशान दिखाई दे रहा है उसकी इस शाखा तर्जनी अंगुली के अंदर तक चली जाये ,जीवन रेखा पर काला धब्बा दिखाई दे रहा हो ,स्वास्थ्य रेखा कई रंगो में नजर आना भी ऐसी बात का संकेत है !

कई बार मस्तिष्क रेखा पर द्वीप दिखाई दे और इनमे से कुछ निशान हाथ में और भी हो या ये सभी संकेत नजर आये तो ये जातक पर जादू टोना होने का संकेत है ! तो दोस्तों आशा है आपको ये जानकारी पसंद आयी होगी ! जैसे भी आपके विचार है कमेंट जरूर करे ! धन्यवाद पामिस्ट रतन 8107958677

Author:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *