हस्तरेखा शास्त्र में अंतर जाति विवाह

आज जो हम चर्चा करने वाले है वो करेंगे अंतर्जातीय विवाह के कारणों की ! हाथ में ऐसे कोनसे निशान होते है जिनको देख कर ये कहा जा सके कि जातक का विवाह किसी दूसरे कास्ट कि लड़की या लड़के से होगा !

FOR MY YOUTUBE CHANNEL CLICK HERE

अंतर्जातीय विवाह

दोस्तों नमस्कार जय गुरु देव ! दोस्तों आज जो हम चर्चा करने वाले है वो करेंगे अंतर्जातीय विवाह के कारणों की ! हाथ में ऐसे कोनसे निशान होते है जिनको देख कर ये कहा जा सके कि जातक का विवाह किसी दूसरे कास्ट कि लड़की या लड़के से होगा !

सबसे पहले हमे ग्रहो का अध्यन करना चाहिए ,अगर जातक के गुरु पर्वत पर क्रॉस का निशान है ,उच्च मंगल पर खड़ी रेखाएं है ,शुक्र पर्वत पर शुक्र रेखाएं निर्दोष है ,भाग्य रेखा चंद्र पर्वत से सुरु हो कर गुरु कि तरफ जाये तर्जनी अंगुली विशेष लम्बी हो और शुक्र बुध गुरु व् चंद्र पर्वत उन्नत है तो ये प्रेम विवाह का संकेत है !

लेकिन हम बात कर रहे है जातक का प्रेम विवाह अंतर्जातीय होगा या सजातीय ये जानने कि ! तो अगर किसी जातक का बुध पर्वत विशेष रूप से उठा हुवा है ,और शुक्र और चन्द्रमा भी विशेष रूप से उन्नत है ,और गुरु पर्वत कमजोर है तो ऐसे में जातक प्रेम विवाह तो करता है लेकिन दूसरी जाति कि लड़की से करता है ! इसके आलावा अगर आपको ह्रदय रेखा निर्दोष दिखाई दे और उस पर लाल रंग का तिल दिखाई दे तो ये भी ऐसी बात को प्रमाणित करता है !

अब कुछ विद्वान् साथी सोच रहे होंगे इन सब बातो का तुक क्या है ? दोस्तों निर्दोष ह्रदय रेखा आपके जीवन में प्रेम को दर्शाती है ! और अगर उस पर तिल का निशान है जिसका रंग लाल है तो प्रेम में गहराई दिखाता है ! साथ में शुक्र पर्वत का उन्नत होना जातक के जीवन में कामवाशना का महत्व दर्शाता है ,अगर गुरु उन्नत है तो जातक को सामाजिक परम्पराओ को निभाने के लिए बाध्य करता है ! अगर गुरु कमजोर है तो जातक परम्पराओ कि परवाह नहीं करता

साथ में बुध का उन्नत होना जातक को बुद्धिमान बनाता है और वो वहीं निर्णय लेता है जिसमे उसका फायदा हो ! इसके आलावा उन्नत चंद्र जातक के जीवन में प्रेम भरता है ऐसे में हम इस निर्णय पर पहुंचते है कि अगर जातक कि हथेली में उक्त संकेत नजर आते है तो जातक अंतर्जातीय प्रेम विवाह करता है !

WANT TO YOU JOIN FREE PALMISTRY DEMO CLASS CLICK HERE

Author:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *