क्या जन्म कुंडली और हस्त रेखा विज्ञानं के परिणाम अलग होते है ?

दोस्तों लोग कहते है जन्म कुंडली और हस्त रेखा विज्ञानं में अंतर् होता जबकि ऐसा नहीं है एक जातक की जन्म कुंडली और हाथ का अगर अध्यन करेंगे तो दोनो के परिणाम सामान ही आएंगे !और आना भी चाहिए ,ऐसा थोड़ी होता है की कुंडली के हिसाब से परिणाम दूसरा होगा और हाथ में कुछRead More

राहुल गाँधी के जीवन का विश्लेषण

 नमस्कार दोस्तो।जय गुरु देव। दोस्तो आज हम चर्चा करेंगे श्रीमान राहुल गांधी के हाथ के बारे में।अगर बात की जाए राहुल जी के हाथ की बात तो ये पररम्भिक श्रेणी का हाथ है।ऐसे लोग धार्मिक, न्याय पसन्द,सामाजिक ,राजनीतिक, संस्कारी किस्म के लोग होते है। ऐसे लोग गरीब घर मे भी पैदा हो कर आसमान कीRead More

नरेंद्र भाई मोदी के जीवन का विश्लेषण

दोस्तों जय गुरु निखिलं ! दोस्तों आज हम चर्चा करेंगे भारत के वर्तमान प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र भाई मोदी जी के हस्त रेखावो के बारे में !दोस्तों अगर मोदी जी के हाथ की अगर बात की जाये तो ये हाथ वरहद श्रेणी का हाथ है !ऐसे लोग समाज  में समाज सेवक ,राजनेता ,उच्च अधिकारी या बड़ेRead More

नाखुनो के प्रकार ओर उनके फल

नमस्कार दोस्तों । जय श्री गुरु देव निखिलं ।दोस्तो आज हम चर्चा करेंगे नाखुनो के बारे में। दोस्तो नाखून मुख्य रूप से 10 प्रकार के देखे गए है। 1 पतले ओर लंबे नाखून  :- ऐसा जातक ऐसे जातक वैसे सोभाग्य शाली होते है। ये जीवन मे पुर्ण आनद का अनुभव करते है। लेकिन इनको फेफड़ोRead More

हस्त रेखा विज्ञान – अंगूठा ( विश्लेषण )

नमस्कार दोस्तो जय गुरु देव।दोस्तो आज हम बात करेंगे अंगूठे की।अंगूठा के महत्व हाथ मे वैसा ही है जैसे कुंडली मे लग्न भाव का होता है।अगर अंगूठा सही नही है तो इंसान की सारी सफलता असफलता में बदल जाती है।लंबा ओर मजबूत अंगूठा इस  कि इच्छा शक्ति,सद्विचार,व सुस्वभाव को दर्षाती है।शरीर किसी भी भाग के काटRead More

वशीकरण विशलेषण

CharmAll-man-attraction-mantra1. “Namo ek-Rupay Amusya Chitra Kuru Kuru Swaha.” Method- 1 lakhs of chant has been proven to be the mantra. Instead of ‘amusement’, add the name of a simple or simple name. “Attraction” means to be taken with a larger vision. Consciously use the said mantra. Should be used after mantra-siddhi. At the time ofRead More

हस्त रेखा विज्ञान – गुरु पर्वत

नमस्कार दोस्तो।जै गुरु देव।दोस्तो आज हम बात करेंगे गुरु पर्वत की।किसी भी हाथ मे गुरु पर्वत तर्जनी उंगली के नीचे के छेत्र को गुरु पर्वत कहा जाता है। अगर गुरु पर्वत बहुत ज्यादा विकसित है तो जातक सवार्थी, घमंडी,जूठी शान के लिये खर्च करने वाला,अबुद्धि,ईर्ष्यालु, क्रोधी,ठग,कपटी,क्रूर,अविस्सनिय,अपनी प्रसंशा सुनने वाला,तानासाही, अन्धविस्वशि होता है।अगर गुरु पर्वत केवलRead More