अगर आपके हाथ में ये तीनो रेखा अछि है तो आपका भाग्य अति उत्तम है!

नमस्कार दोस्तों जय गुरु देव नमो निखिलं ! दोस्तों बचपन में हमने अपने बुजर्गो के मुँह से एक बात कई बार सुनी है दिखा तेरा हाथ देखे कितने धन के कोठे है !उस समय ये बात काम समझ आती थी ,पता नहीं था ये धन के कोठे कैसे होते है ?लेकिन अब जब इस शास्त्रRead More

क्या किसी गंभीर बीमारी के लक्षण है आपके हाथ में ?

दोस्तों जय गुरु देव नमो निखिलं .दोस्तों इंसान के जीवन में पहला सुख निरोगी काया को बताया गया है ,अगर इंसान का स्वास्थ्य उत्तम है तो वो किसी भी हालत से लड़ सकता है ,लेकिन अगर आप किसी गंभीर बीमारी की चपेट में आगये तो आप ही नहीं पूरा परिवार मुसीबत में फंस जाता हैRead More

जानें कैसे मिलेगा मां बगलामुखी से आशीर्वाद, क्या है पूजा करने का तरीका

दस महाविद्या में आठवीं स्वरूप देवी बंगलामुखी का है। माता बंगलामुखी पीली आभा से युक्त हैं इसलिए इन्हें पीताम्बरा कहा जाता है। बंगलामुखी की पूजा में पीले रंग का विशेष महत्व है। बगला शब्द संस्कृत भाषा के वल्गा का अपभ्रंश है, जिसका अर्थ होता है दुलहन है अत: मां के अलौकिक सौंदर्य और स्तंभन शक्तिRead More

यदि गुरु ग्रह खराब है तो करें यह उपाय..

.सौरमंडल में सूर्य के आकार के बाद बृहस्पति का ही नंबर आता है।गुरु ग्रह  के कारण ही धरती का अस्तित्व बचा हुआ है। सूर्य, चंद्र, शुक्र, मंगल के बाद धरती पर इसका प्रभाव सबसे अधिक माना गया है।अगर आपका गुरु खराब है तो ये बहुत ज्यादा परेशानिया देता है ,इस लिए खराब गुरु की पहचानRead More

( बगलामुखी कवच )

मां बगलामुखी के प्रत्येक साधक को प्रतिदिन जाप प्रारम्भ करने से पहले इस कवच का पाठ अवश्य करना चाहिए । यदि हो सके तो सुबह दोपहर शाम तीनों समय इसका पाठ करें । यह कवच विश्वसारोद्धार तन्त्र से लिया गया है। पार्वती जी के द्वारा भगवान शिव से पूछे जाने पर भगवती बगला के कवचRead More

इसे कहते हैं करोड़पति योग, देखिए आपकी हथेली में है क्या?

हथेली में खींची हुई आड़ी तिरछी रेखाओं के बीच ही एक रेखा आपकी हथेली में भी हो सकती है। कहते हैं यह रेखा जिनकी भी हथेली में होती है उसे करोड़पति बनने से कोई रोक नहीं सकता। जिनकी हथेली में भाग्यरेखा नहीं भी होती है उन्हें भी यह रेखा अमीर बना देती है। हथेली मेंRead More

हथेली पर हो ये खास निशान तो बदल सकती है आपकी किस्मत और बन सकते हैं धनवान

मंगल पर्वत हथेली पर दो जगहों पर बना होता है। एक अंगूठे के पास वाले स्थान पर और दूसरा ह्रदय रेखा और मस्तिष्क रेखा के पास होता है। मंगल पर्वत पर चौकोर आकृति होने पर व्यक्ति के पराक्रम में वृद्धि होती है और वह अपने शत्रुओं पर हमेशा विजय प्राप्त करता है।शनि पर्वत का स्थानRead More